Showing posts with the label ankitShow all
मेरे तरफ देखो बस तन्हा और तनहाई है। अंकित
रोज मर्रा के काम से थक हार जब घर लौट आता है
रुला देने वाली दर्द भारी शायरी एक बार जरूर पढे
दिल छू जाने वाली प्यार भरी शायरी एक बार जरूर पढे
एक बेबस बाप बेचारा छोटी सी कविता ..अंकित कुशवाहा
आखिर पलायन कर जाता है.… अंकित
That is All